पत्थर

पत्थरों,चट्टानों से टकराये
फिर भी इसे कोई रोक न पाए
तू भी बन इस काबिल मेरे दोस्त
मुश्किलें कितनी भी आए
तू आगे बढ़ता जाए.

0

Article Categories:
Dharma
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *