बचपन के खिलौने सा कही छुपा लूँ तुम्हे ! आँसू बहाऊँ, पाँव पटकू और पा लूँ तुम्हे !

बचपन के खिलौने सा कही छुपा लूँ तुम्हे !
आँसू बहाऊँ, पाँव पटकू और पा लूँ तुम्हे !

0

Article Categories:
Dharma
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *