पेड़ हु हर रोज़ गिरते है पत्ते मेरे…

पेड़ हु हर रोज़ गिरते है पत्ते मेरे
फिर भी हवाओं से बदलते नहीं रिश्ते मेरे..

0

Article Categories:
Karma
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *