यहाँ सब खामोश हैं,  कोई आवाज़ नहीं करता….

यहाँ सब खामोश हैं,
कोई आवाज़ नहीं करता ।
दरअसल बात यह है कि
सच बोलकर कोई किसी को
नाराज़ नहीं करता ।

0

Article Categories:
Karma
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *