“निखरती है मुसीबतों से ही! शख्सियत यारों !! जो चट्टान से ही ना उलझे! वो झरना किस काम का!!”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *