Mere mann ki baat…

जैसे जैसे मेरी उम्र में वृद्धि होती गई, मुझे समझ आती गई कि अगर मैं Rs.1000 की घड़ी पहनू या Rs.1000000 की दोनों समय एक जैसा ही बताएंगी..!

मेरे पास Rs.3000 का बैग हो या Rs.30000 का, इसके अंदर के सामान मे कोई परिवर्तन नहीं होंगा। !

मैं 300 गज के मकान में रहूं या 3000 गज के मकान में, तन्हाई का एहसास एक जैसा ही होगा।!

आखिर में मुझे यह भी पता चला कि यदि मैं बिजनेस क्लास में यात्रा करूँ या इक्नामी क्लास में अपनी मंजिल पर उसी नियत समय पर ही पहुँचूँगा।

इसलिए अपने बच्चों को अमीर होने के लिए प्रोत्साहित मत करो बल्कि उन्हें यह सिखाओ कि वे खुश कैसे रह सकते हैं और जब बड़े हों, तो चीजों के महत्व को देखें उसकी कीमत को नहीं ….

दिल को दुनिया से न लगाएं क्योंकि वह नश्वर है, बल्कि धर्म से लगाओ क्योंकि वही बाकी रहने वाली है…

फ्रांस के एक वाणिज्य मंत्री का कहना था
ब्रांडेड चीजें व्यापारिक दुनिया का सबसे बड़ा झूठ होती हैं जिनका असल उद्देश्य तो अमीरों से पैसा निकालना होता है लेकिन गरीब इससे बहुत ज्यादा प्रभावित होते हैं.

क्या यह आवश्यक है कि मैं Iphone लेकर चलूं फिरूँ ताकि लोग मुझे बुद्धिमान और समझदार मानें?

क्या यह आवश्यक है कि मैं रोजाना Mac या Kfc में खाऊँ ताकि लोग यह न समझें कि मैं कंजूस हूँ?

क्या यह आवश्यक है कि मैं प्रतिदिन दोस्तों के साथ उठक बैठक Downtown Cafe पर जाकर लगाया करूँ ताकि लोग यह समझें कि मैं एक रईस परिवार से हूँ?

क्या यह आवश्यक है कि मैं Gucci, Lacoste, Adidas या Nike के कपड़े पहनूं ताकि जेंटलमैन कहलाया जाऊँ?

क्या यह आवश्यक है कि मैं अपनी हर बात में दो चार अंग्रेजी शब्द शामिल करूँ ताकि सभ्य कहलाऊं?

क्या यह आवश्यक है कि मैं Adele या Rihanna को सुनूँ ताकि साबित कर सकूँ कि मैं विकसित हो चुका हूँ?

नहीं यार !!!

मेरे कपड़े तो आम दुकानों से खरीदे हुए होते हैं,
दोस्तों के साथ किसी ढाबे पर भी बैठ जाता हूँ,
भुख लगे तो किसी ठेले से ले कर खाने मे भी कोई अपमान नहीं समझता,
अपनी सीधी सादी भाषा में बोलता हूँ। चाहूँ तो वह सब कर सकता हूँ जो ऊपर लिखा है
लेकिन ….
मैंने ऐसे लोग भी देखे हैं जो मेरी Adidas से खरीदी गई एक कमीज की कीमत में पूरे सप्ताह भर का राशन ले सकते हैं।

मैंने ऐसे परिवार भी देखे हैं जो मेरे एक Mac बर्गर की कीमत में सारे घर का खाना बना सकते हैं।

बस मैंने यहाँ यह रहस्य पाया है कि पैसा ही सब कुछ नहीं है जो लोग किसी के बाहरी हालात से उसकी कीमत लगाते हैं वह तुरंत अपना इलाज करवाएं।
मानव मूल की असली कीमत उसकी नैतिकता, व्यवहार, मेलजोल का तरीका, सुल्ह-रहमी, सहानुभूति और भाईचारा है, ना कि उसकी मौजूदा शक्ल और सूरत… !!!

इस बारे में सोचना ज़रूर..

3

Article Tags:
· ·
Article Categories:
VISHWAS
Likes:
3

Comments

  • Great Sir.
    Me agree hun 100% aapke vicharoo se.
    Thanks
    Be happy
    Be healthy. Jaihind sir

    Surender Singh December 18, 2017 5:19 PM Reply
    • Great sir
      Nice one sir

      Sharmila kuamri March 26, 2019 10:19 PM Reply
      • Very good

        Good March 26, 2019 11:05 PM Reply
  • Mere ko eysa kyu lagta hai jese aap mere mnn ki baat bta rahey hain….Sir. Mai bhi kush eysa hi mehsoos karta hun Sir. Bohut hi Badiya…..Great

    Ramesh Raina December 18, 2017 5:59 PM Reply
  • nice line

    open eyes from eye wash of brands

    manjeet mor December 19, 2017 4:02 PM Reply
  • I impress with ur maan ki baat,,,

    Mahesh March 26, 2019 10:00 PM Reply
  • Great thoughts sir ji

    Ramesh Jadhav March 26, 2019 10:34 PM Reply
  • Fully agreed
    Eye opener for brand freaks
    Well said

    Jruhil March 26, 2019 10:51 PM Reply
  • Great sir,
    jiwan ki sachai ko sir aapne to nichod k likh diya

    Narender Malik March 26, 2019 11:08 PM Reply
  • Nice Lines Sir ji Great sir Aap ki agli post ka intajar hai sir ji.hume aap se perna milti hai. Jai Hindh
    Bharat Mata Ki Jai.

    Santosh Bhosale March 26, 2019 11:14 PM Reply
  • Superb sir.Its very true.

    Sachiin Sankpal March 26, 2019 11:28 PM Reply
  • Nice sir Aapki ye bat Dil ko chu lenevali hain muze ye padhkar bahot Accha laga

    Vishnudas patil March 27, 2019 4:07 AM Reply
  • Sir, Ap ki company bahut achi hai, pata hai aisa q hai, qki ap ki thoughts bahut aache hain. Mujhe apki soch bahut achi lagati hai.

    Rahul kumar March 27, 2019 4:26 AM Reply
  • Nice thought.

    Ak sharma March 27, 2019 5:08 AM Reply
  • Wah kya bat h sir,apko jo apne parents se sanskar mile h vo sabhi ko nahi milte ap bahut bhagyasali hain.great sir

    Capt.Rajvir singh March 27, 2019 5:24 AM Reply
  • Great sir him apke saath hain

    Good thought very nice thinking I agree with you March 27, 2019 5:42 AM Reply
  • बहुत ही बढीया सर यही सचा जीवन है यही इसानीयत की निशानी है जय shree ram
    धन्यवाद सर
    Ramkrishna

    microsysbgm@gmail.com March 27, 2019 6:40 AM Reply
  • 100% true
    Mann ko chu liya es post ne to itni badi baat aur itni sadgi se likh di
    Realy great sir

    Karampal March 27, 2019 7:08 AM Reply
  • Very true. Sir jeewan ki sabse badi sachai yhi hai. Hum jitna jaldi samajh le utna hi hmare liye behtar hoga. Parantu bacho ko samjhana thoda mushkil hoga.hr koi apne anubhav se esa mehsoos krta hai. Bahut achha message hai.apka bahut bahut dhanyad. Jai shree krishna.

    Ravi March 27, 2019 7:38 AM Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *