जीवन “गणित” है। सांसें “घटती” है अनुभव “जुड़ते” है।

जीवन “गणित” है।
सांसें “घटती” है
अनुभव “जुड़ते” है।

अलग अलग “कोष्ठकों” में
बंद हम
बुनते रहते हें “समीकरण” ।
लगाते रहते हैं “गुणा”- “भाग”।

जबकि
अंतिम सत्य “शून्य है”।।

0

Article Categories:
VISHWAS
Likes:
0

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *